• Home
  • |
  • About Us
  • |
  • Contact Us
  • |
  • Login
  • |
  • Subscribe
BPNLIVE

रविवार को जयपुर की सड़कों पर किया रोड शोदिखाई ताकत

रैली की भीड़ पर टिकीं बीजेपी-कांग्रेस की नजरें

 

जयपुर। प्रदेश में तीसरे मोर्चे को खड़ा करने के लिए जीतोड़ कोशिशों में जुटे खींवसर विधायक हनुमान बेनीवाल सोमवार को जयपुर में हुंकार रैली के माध्यम से शक्ति प्रदर्शन करेंगे। पिछले एक साल से प्रदेश स्तर पर रैलियां आयोजित कर रहे बेनीवाल जयपुर रैली में अपनी नई पार्टी के गठन का ऐलान भी करेंगे। रैली में कई दूसरी पार्टियों के बड़े नेताओं को भी आमंत्रित किया गया है।

रैली से पहले बेनीवाल ने अपने समर्थकों के साथ जयपुर के मानसरोवर मेट्रोस्टेशन से 22 गोदाम सहकार मार्ग तक रोड शो किया। इस रोड शो में बेनीवाल समर्थकों ने भी दमखम दिखाया। बेनीवाल के रोड शो के दौरान मार्ग पर यातायात अवरुद्ध रहा। सोमवार की रैली के लिए बेनीवाल व उनके समर्थक लंबे समय से तैयारियों में जुटे हैं। बेनीवाल ने भी सभा में 15 लाखों लोगों के जुटने का दावा किया है। रैली की तैयारियों को उनके समर्थकों द्वारा अंतिम रूप दिया जा रहा है। बेनीवाल के समर्थकों द्वारा यह दावा किया जा रहा है कि राजस्थान के हर जिले से बड़ी संख्या में किसान इस महारैली में जुटेंगे। आज शाम से ही महारैली में शामिल होने वाले लोगों के जयपुर आने का सिलसिला शुरू हो जाएगा। सभा स्थल पर 6 लाख लोगों के बैठने की व्यवस्था की गई है. इसके साथ ही सभा स्थल पर सुरक्षा के भी पुख्ता इंतजाम किए गए हैं।

 

बॉक्स

हुंकार रैली में पार्टी का ऐलान करेंगे बेनीवाल

घनश्याम तिवाड़ी को भी किया आमंत्रित

तीसरा मोर्चा खड़ा करने की कवायद

भीड़ जुटी तो बढ़ेगी कांग्रेस की मुश्किलें

 

 

निशाने पर कांग्रेस

दरअसलबेनीवाल के निशाने पर अभी कांग्रेस ही है। बेनीवाल का कहना है कि बीजेपी तो दौड़ से पहले ही बाहर हो चुकी है लेकिन अगर बेनीवाल की रैलियों के नफे नुकसान का आकलन करें तो पता चलता है कि बेनीवाल की बढ़ती ताकत कांग्रेस को नुकसान ज्यादा पहुंचाएगी। यही कारण है कि बीजेपी से ज्यादा कांग्रेस नेताओं की नजरें बेनीवाल की रैली पर टिकीं हैं। बेनीवाल कहने को तो 36 कौम की राजनीति करने की बात कहते हैं लेकिन राजनीतिक विश्लेषक उन्हें जाट समाज का नेता ज्यादा मानते हैं। जाट समाज इस बार बीजेपी से नाराज है। ऐसे में अगर बेनीवाल ने जाट समाज को अपने साथ जोड़ लिया तो फायदा बीजेपी का है। बेनीवाल की बढ़ती ताकत का प्रभाव राजनीति विश्लेषक कुछ ही सीटों पर ज्यादा मान रहे हैं लेकिन अगर जयपुर रैली में भीड़ आई तो यह तय है कि बेनीवाल इस चुनाव में वही प्रदर्शन दोहराने वाले हैंजो 2013 में डॉ. किरोड़ी लाल मीणा ने किया था।

 

 


Leave a comment