• Home
  • |
  • About Us
  • |
  • Contact Us
  • |
  • Login
  • |
  • Subscribe
BPNLIVE

हजारों की भीड़ के सामने किया नई पार्टी का ऐलान

राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी के बैनर तले लड़ेंगे चुनाव

घनश्याम तिवाड़ी भी आए साथ, प्रदेश में बनेगा तीसरा मोर्चा

 

 

जयपुर। जयपुर में आज किसान नेता और विधायक हनुमान बेनीवाल ने किसान हुंकार महारैली के माध्यम से शक्ति प्रदर्शन किया। रैली में उमड़ी भीड़ ने ऐन चुनावों से पहले बीजेपी और कांग्रेस में अंदरखाने हलचल मचा दी है। रैली में राष्ट्रीय लोकदल के जयंत चौधरी और भारत वाहिनी पार्टी के अध्यक्ष वरिष्ठ विधायक घनश्याम तिवाड़ी की मौजूदगी ने राजस्थान में तीसरे मोर्चे के गठन की औपचारिकता भी पूरी कर दी। हालांकि इसका विधिवत ऐलान नहीं किया गया है लेकिन इसके संकेत मिलने लगे हैं।

 रैली में आए अपने हजारों समर्थकों की मौजूदगी में बेनवाल ने अपनी पार्टी राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी के औपचारिक गठन का भी ऐलान किया। इस अवसर पर बेनीवाल ने राजस्थान में तीसरे मोर्चे की सरकार का दावा करते हुए कहा कि बीजेपी और कांग्रेस में से एक पार्टी तीसरे नंबर पर जाएगी और किसानों की सरकार बनेगी। रैली के दौरान ही राजस्थान में लोकदल, भारत वाहिनी और राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी के गठबंधन का धरातल भी तैयार हो गया। इस दौरान बेनीवाल ने अपने भाषण में घनश्यात तिवाड़ी की तारीफ में जमकर कसीदे पढ़े

 

निशाने पर राजे-गहलोत

 रैली में बेनीवाल के निशाने पर मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे और पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत विशेष रूप से रहे। उन्होंने कहा कि बीजेपी सरकार उद्योगपतियों की सरकार है। केंद्र में जब उद्योगपतियों का 3 लाख करोड़ का कर्जा माफ किया जा सकता है तो राजस्थान में किसानों का कर्जा क्यों माफ नहीं किया गया। उन्होंने अशोक गहलोत पर भी किसानों से विश्वासघात करने का आरोप लगाया। बेनीवाल ने कहा कि हमें राजस्थान में परिवर्तन करना है और इस परिवर्तन की शुरूआत आज से हो गई है। इस दौरान उन्होंने अपने समर्थकों से आजादी की दूसरी लड़ाई लडऩे का भी आह्वान किया।

 

भाजपा से है पुराना बैर

उल्लेखनीय है कि साल 2008 में भाजपा के टिकट पर खींवसर से विधायक चुने गए बेनीवाल की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे से नहीं बनी तो वे अलग हो गए। साल 2013 में वह निर्दलीय के रूप में जीते। राज्य की राजनीति में बड़ी भागीदारी रखने वाला जाट समुदाय नागौर, सीकर, बीकानेर सहित शेखावटी के कई जिलों की 50 से ज्यादा सीटों में परिणामों को प्रभावित कर सकता है। बेनीवाल मौजूदा मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे के खिलाफ  मोर्चा खोलने वाले तीन बड़े भाजपा नेताओं में से एक हैं। दो अन्य नेता घनश्याम तिवाड़ी और किरोड़ी लाल मीणा हैं। भाजपा ने मीणा को तो वापसी के लिए मना लिया लेकिन तिवाड़ी अपनी भारत वाहिनी पार्टी के बैनर तले भाजपा के कुशासन से मुकाबला करने को अडिग दिखते हैं। राजपूत बनाम जाट के खेल में राजनीतिक पटल पर तेजी से पकड़ बनाने वाले बेनीवाल हाल ही में नागौर, बाड़मेर, बीकानेर तथा सीकर में बड़ी किसान हुंकार रैलियों के जरिए अपना शक्ति प्रदर्शन कर चुके हैं। बेनीवाल ने कहा कि पार्टी के गठन के बाद वह समान विचारधारा वाले अन्य दलों के साथ राज्य में तीसरा मोर्चा खड़ा करने का प्रयास करेंगे

 

मुख्य घटक दल गायब

बेनीवाल और तिवाड़ी ने तीसरे मोर्चे के विकल्प के रुप में मुख्य रूप से वामपंथी, सीपीएम, बसपा, आप, जद (यू) गायब हैं। इनमें से दो बसपा और आप ने राजस्थान की 200 सीटों पर चुनाव लड़ाने की घोषणा की है जबकि जनता दल (यूनाइटेड) बांसवाड़ा, डूंगरपुर की 5 सीटों पर चुनाव लडऩे की घोषणा की है। इसके अलावा सपा, राष्ट्रीय लोकदल का राजस्थान में खासा प्रभाव नहीं है। राजनीतिक विश्लेषक मानते है कि बेनीवाल की सफलता इसमें ही है कि वे इस भीड़ को वोटों में कितना बदल पाते हैं। 

Leave a comment