• Home
  • |
  • About Us
  • |
  • Contact Us
  • |
  • Login
  • |
  • Subscribe
BPNLIVE

आचार संहिता के उल्लंघन में मामले में निर्वाचन आयोग की कार्रवाई

बांसवाड़ा में दिया था आपत्तिजनक बयान, नोटिस का जवाब नहीं

 

जयपुर। विवादस्पद बयान देने वाले राज्य सरकार के पंचायत राज राज्य मंत्री धन सिंह रावत आदर्श आचार संहिता के उल्लंघन में फंस गए हैं। रावत के बयान को आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन मानते हुए मुख्य निर्वाचन अधिकारी आनंद कुमार के निर्देश पर उनके खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई गई।

दरअसल मंत्री रावत ने गत शुक्रवार को बांसवाड़ा विधानसभा क्षेत्र में बीजेपी के नवशक्ति सम्मलेन में एक विवादास्पद बयान दिया था। रावत के बयान वाला यह वीडियो बाद में खूब वायरल भी हुआ। रावत इस वीडियो में कांग्रेस को मुसलमानों की पार्टी बता रहे हैं और सभी हिंदुओं को बीजेपी को वोट देकर प्रचंड बहुमत से जिताने की बात कह रहे हैं।

 

नोटिस का नहीं दिया जवाब

मंत्री रावत के इस बयान के बाद जिला निर्वाचन अधिकारी बांसवाड़ा ने उनको आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन करने के मामले में नोटिस दिया था। जिला निर्वाचन अधिकारी ने रावत से तीन दिन में जवाब मांगा था, लेकिन रावत ने नोटिस का जवाब नहीं दिया। इस पर मंत्री रावत को आदर्श आचार संहिता का दोषी मानते हुए मुख्य निर्वाचन अधिकारी के निर्देश पर सोमवार को उनके खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई गई।

 

कांग्रेस का पलटवार

वहीं रावत के इस बयान पर कांग्रेस ने भी पलटवार किया है। कांग्रेस के पूर्व सांसद हरीश चौधरी ने रावत पर निशाना साधते हुए निर्वाचन आयोग की कार्रवाई का स्वागत किया है। उन्होंने कहा कि चुनावों में धर्म के नाम पर वोट मांगना कानून के खिलाफ है और अगर कोई ऐसा करता है तो निर्वाचन आयोग को उसके खिलाफ कार्रवाई करने का पूरा अधिकार है। उन्होंने कहा कि हमें विश्वास है कि आयोग इस मामले को गंभीरता से लेकर कठोर कार्रवाई करेगा। कुल मिलाकर इस मामले में धन सिंह रावत बुरी तरह फंसते नजर आ रहे हैं। निर्वाचन आयोग के नोटिस का जवाब नहीं देकर उन्होंने अपनी परेशानियों में और इजाफा कर लिया है। अब देखना होगा कि रावत के खिलाफ क्या कार्रवाई होती है। 

Leave a comment