• Home
  • |
  • About Us
  • |
  • Contact Us
  • |
  • Login
  • |
  • Subscribe
BPNLIVE

गोली मारकर 5 की हत्या, घरों से बाहर निकालकर भूना

सरकार ने सुरक्षा एजेंसियों को अलर्ट पर रखा

 

गुवाहाटी। असम के तिनसुकिया जिले में एक बड़ा उग्रवादी हमला हुआ है। रिपोट्र्स के मुताबिक इस हमले को उग्रवादी संगठन उल्फा (इंडिपेंडेंट) ने अंजाम दिया है। उल्फा उग्रवादियों ने यहां 5 लोगों की गोली मारकर हत्या कर दी। वहीं, इस घटना पर प्रतिकि देते हुए पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने इसे बंगाली मूल से जोड़ा। साथ ही उन्होंने हाल के समय में विवाद का केंद्र बने नेानल रजिस्टर ऑफ सिटिजन्स (एनआरसी) पर भी निशाना साधा है।  

पुलिस का कहना है कि घातक हथियारों से लैस हमलावरों का दस्ता तिनसुकिया के खेरोनी गांव में ढोला-साडिय़ा पुल के पास पहुंचा। रात करीब 8 बजे पांच से 6 लोगों को उनके घरों से निकाला गया। इसके बाद इन लोगों पर अंधाधुंध फायरिंग शुरू कर दी गई। वारदात के बाद अंधेरे का फायदा उठाते हुए संदिग्ध उग्रवादी फरार हो गए। पुलिस को शक है कि इस हमले को उल्फा (इंडिपेंडेंट) गुट ने अंजाम दिया है। 

 

कायरतापूर्ण हमला, बख्शेंगे नहीं-असम सीएम 

असम के मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल ने हमले की कड़ी आलोचना करते हुए इसे निर्दोष लोगों की हत्या करार दिया। उन्होंने मृतकों के परिजनों के प्रति शोक संवेदना जताई। उन्होंने कहा, इकायरतापूर्ण हिंसा में शामिल लोगों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी। सोनोवाल ने साथ ही कहा कि उन्होंने राज्य के मंत्री केशव महंत और तपन गोगोई को डीजीपी कुलधर सैकिया के साथ घटनास्थल पर पहुंचने के निर्देश दिए। सीएम सोनोवाल ने कहा, हम हत्या के लिए जिम्मेदार लोगों को बख्शेंगे नहीं और जल्द ही उन्हें कानून के घेरे में लाकर कार्रवाई की जाएगी। इसके साथ ही सीएम ने असम के लोगों से शांति और सौहाद्र्र बनाए रखने की अपील की। सीएम ने सभी डेप्युटी कमिश्नर और एसपी को अलर्ट रहने के भी निर्देश दिए हैं। 

 

ममता ने ट्वीट कर उठाए सवाल 

इस बीच पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी ने ट्वीट कर सवाल उठाया है कि क्या यह एनआरसी से जुड़ी घटनाओं का नतीजा है। उन्होंने ट्वीट किया है- असम से भयानक खबर आई है। हम तिनसुकिया में हुए बर्बर हमले और श्यामलाल बिस्वास, अनंत बिस्वास, अभिनाश बिस्वास, सुबोध दास की हत्या की निंदा करते हैं। उन्होंने पांचवें मृतक का नाम धनंजय नामशूद्र बताया है। साथ ही ममता बनर्जी ने लिखा है कि पीडि़त परिवारों के प्रति दुख को बयान करने के लिए उनके पास शब्द नहीं हैं। उन्होंने मांग की है कि जल्द से जल्द दोषियों को पकड़ा जाए।  

Leave a comment