• Home
  • |
  • About Us
  • |
  • Contact Us
  • |
  • Login
  • |
  • Subscribe
BPNLIVE

दोनो पार्टियों में नए सिरे से मंथन

राहुल के नेतृत्व में सीईसी दिवाली बाद करेगी फैसला

बीजेपी में फिर तैयार हो रही दिग्गजों की कुंडली

 

 

जयपुर। बीजेपी और कांग्रेस में टिकट वितरण को लेकर चल रही रस्साकशी थमने का नाम नहीं ले रही है। भीतरघात और विरोध की आशंका के कारण दोनों ही पार्टियां फूंक-फूंक कर कदम रख रही हैं। यही कारण है कि कांग्रेस ने तो अभी तक जयपुर शहर की सीटों को लेकर सीईसी मे विचार ही नहीं किया है, वहीं बीजेपी में जयपुर शहर की सीटों को लेकर नए सिरे से रिपोर्ट तैयार करवाई जा रही है।

दोनों ही पार्टियों के शीर्ष नेताओं के बीच आपसी विवाद की रह-रहकर सामने आती खबरों ने समर्थकों से लेकर टिकट के दावेदारों की चिंताओं को भी बढ़ा दिया है। यही कारण है कि अब इसे मैनेज करने का काम भी शुरू कर दिया गया है।

 

 

कांग्रेस को बगावत का खतरा

कांग्रेस की केंद्रीय चुनाव समिति की बैठक में कई सीटों पर विवाद की स्थिति बनी थी। अशोक गहलोत और सचिन पायलट के बीच का नेतृत्व विवाद भी जस का तस है। ऐसे में सबसे मुश्किल स्थिति जयपुर शहर की विधानसभा सीटों को लेकर बन रही है। यहां हर सीट पर दोनों नेताओं के समर्थकों ने ताल ठोंक रखी है और बगावत का खतरा हर सीट है। यही कारण है कि अब कांग्रेस ने इन सीटों पर अंतिम फैसला दिवाली तक के लिए टाल दिया है। पार्टी नेताओं का कहना है कि प्रत्याशियों की पहली सूची भी दिवाली के बाद ही जारी की जाएगी और जयपुर शहर पर फैसला सबसे आखिर में होगा।

 

बॉक्स

- जयपुर में सिर्फ सिविल लाइंस से उम्मीदवारी तय

- किशनपोल, आदर्शनगर, सांगानेर और मालवीय नगर पर फंसा पेंच

- विवाद के कारण अब दिवाली तक टला जयपुर की सीटों पर फैसला

 

 

बीजेपी में नए सिरे से सर्वे

वहीं दूसरी तरफ बीजेपी में भी सीटों पर अंतिम फैसला अटक गया है। पार्टी सूत्रों का कहना है कि प्रदेश में लगभग 90 सीटों पर बीजेपी ने सिंगल पैनल तैयार किया था लेकिन पार्टी प्रदेश अध्यक्ष अमित शाह ने इसे मानने से इनकार कर दिया। शाह के निर्देश पर पार्टी फिर से इन सीटों पर पैनल तैयार कर रही है। इसमें जयपुर की सीटें भी शामिल हैं। मंत्रियों और विधायकों के खिलाफ एंटी इनकंबेंसी की सर्वे रिपोट्र्स के कारण केंद्रीय नेतृत्व ने सूची को अंतिम रूप देने का मामला अभी टाल दिया है। ऐसे में बीजेपी की पहली सूची भी अब दिवाली के बाद ही आने की संभावना है। जिस तरह से दोनों ही पार्टियां टिकट वितरण से पहले हर परिस्थिति को तोलने में जुटी हैं, उसने टिकट के दावेदारों का असमंजस बढ़ा दिया है। हालात यह हैं कि पार्टी के बड़े नेता भी अपनी टिकट को लेकर दावे करने से बचने लगे हैं।

 

बॉक्स

- जयपुर की सीटों पर बीजेपी फिर से कर रही विचार

- विधानसभावार नए सिरे से रिपोर्ट तैयार करने के निर्देश

- मंत्रियों-विधायकों के खिलाफ माहौल से पार्टी का शीर्ष नेतृत्व सतर्क

- झोटवाड़ा, विद्याधर नगर, सांगानेर, किशनपोल और आदर्शन नगर पर टिकीं नजरें

- नई रिपोर्ट के आधार पर ही तय होगी उम्मीदवारी

Leave a comment