• Home
  • |
  • About Us
  • |
  • Contact Us
  • |
  • Login
  • |
  • Subscribe
BPNLIVE

पीसीसी से लेकर एआईसीसी तक हंगामा

टिकट वितरण से पहले ही संभावितों का विरोध

सभी को साथ लेकर चलने के दावों की निकली हवा

 

जयपुर। राजस्थान विधानसभा चुनाव 2018 के लिए कांग्रेस में टिकटार्थियों और उनके समर्थकों के बीच पिछले तीन दिनों से हो रहे बवाल ने जयपुर से दिल्ली तक कांग्रेस नेताओं की नींद उड़ा दी है। जिस तरह जयपुर में पीसीसी कार्यालय के बाहर हंगामा हुआ उसी तरह दिल्ली में एआईसीसी पर राजस्थान के नेताओं और उनके समर्थकों का लगातार दो दिनों से विरोध प्रदर्शन हो रहा है। इस बवाल से बचने के लिए रविवार को एआईसीसी के मेन गेट पर बैरिकेटिंग कर दी गई। विरोध प्रदर्शन कर रहे कार्यकर्ताओं को अब कांग्रेस मुख्यालय में नहीं घुसने दिया जा रहा है। मौके पर प्रदेश के सपोटरा, टोडाभीम और भीनमाल से आए कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने प्रदर्शन किया है।

एआईसीसी मुख्यालय पर जालोर जिलाध्यक्ष डॉक्टर समरजीत सिंह का विरोध किया गया। ग्राम सेवा सहकारी समिति घोटाला मामले को लेकर किसानों ने वहां प्रदर्शन किया। कांग्रेस मुख्यालय पर समरजीत सिंह हटाओ, भीनमाल बचाओ के नारे लगाए गए। समरजीत सिंह के विरोध में किसानों के साथ कई कांग्रेस कार्यकर्ता भी दिल्ली पहुंचे हैं। इस प्रदर्शन के दौरान समरजीत सिंह पर पार्टी विरोधी गतिविधियों में लिप्त होने के आरोप लगाए गए। प्रदर्शनकारी समरजीत सिंह को टिकट नहीं देने की मांग कर रहे थे।

 

 

हरकत में दिग्गज नेता

उधर, राहुल गांधी की सख्त हिदायत के बाद स्क्रीनिंग कमेटी हरकत में आई है। स्क्रीनिंग कमेटी चेयरमैन कुमारी शैलजा के निवास पर बैठकों का दौर जारी है। बारह सफदरजंग लेन पर शनिवार देर रात 4 बजे तक बैठक चली थी। बैठक में प्रदेश प्रभारी अविनाश पांडे, प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष सचिन पायलट, संगठन महासचिव अशोक गहलोत, नेता प्रतिपक्ष रामेश्वर डूडी भी मौजूद रहे। उम्मीदवारों के नाम पर आम सहमति बनाने को लेकर सभी नेता महामंथन में जुटे हैं। जानकारी के अनुसार अब कांग्रेस में उम्र दराज नेताओं की जगह युवाओं और महिलाओं को मौका देने पर एक्सरसाइज चल रही है। अपराधिक पृष्ठभूमि से जुड़े दावेदारों का ऑप्शन ढूंढऩे के लिए भी मशक्कत की जा रही है। सूत्रों के अनुसार सोमवार को फुल स्क्रीनिंग की बैठक में अंतिम निर्णय लिया जाएगा।

Leave a comment