• Home
  • |
  • About Us
  • |
  • Contact Us
  • |
  • Login
  • |
  • Subscribe
BPNLIVE

नए सिरे से की गई रायशुमारी की रिपोर्ट पेश

22 नेताओं ने 33 जिलों से ली फीडबैक रिपोर्ट

पार्टी में विरोध प्रदर्शन की भी शुरूआत

 

जयपुर। राजस्थान विधानसभा चुनावों में टिकट वितरण को लेकर बीजेपी ने प्रदेश की सभी 200 सीटों पर आज अंतिम रूप से मंथन किया। पार्टी की कोर कमेटी की आज आयोजित बैठक में नए सिरे से की गई रायशुमारी की रिपोर्ट पेश की गई और अंतिम रूप से सामने आए नामों पर चर्चा की गई। अंदर होटल में पार्टी नेता उम्मीदवारों के नामों पर मंथन करते रहे। जबकि होटल के बाहर कई नेताओं के विरोधियों ने जमकर हंगामा किया।

दरअसल, राजस्थान बीजेपी ने करीब 95 नामों के सिंगल पैनल पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह को सौंप दिए थे, जिन पर शाह ने आपत्ति जताते हुए नए सिरे से पैनल बनाने के निर्देश दिए थे। जिसके बाद पार्टी ने सभी 200 सीटों के लिए नए सिरे से रायशुमारी करवाई और इसकी जिम्मेदारी 22 नेताओं को सौंपी थी। राजधानी जयपुर की सीटों की रायशुमारी का जिम्मा संगठन महामंत्री चंद्रशेखर को दिया गया था। इस रायशुमारी की रिपोर्ट पर आज कोर ग्रुप ने मंथन किया। सूत्रों का कहना है कि इस रिपोर्ट में भी करीब 105 वर्तमान विधायकों के खिलाफ जबर्दस्त नाराजगी सामने आई है।

 

बॉक्स

- कोर ग्रुप में अंतिम रायशुमारी रिपोर्ट पर मंथन

- सीएम वसुंधरा राजे सहित तमाम दिग्गजों ने किया विचार-विमर्श

- अब नए पैनल जाएंगे दिल्ली सीईसी की बैठक में

- 105 विधायकों के खिलाफ फिर सामने आई नाराजगी

- हर विधानसभा से प्रमुख कार्यकर्ताओं से लिया गया फीडबैक

 

 

पूनिया-वर्मा का विरोध

बीजेपी के दिग्गज नेता जहां एक तरफ एक होटल में अंतिम रूप से रायशुमारी रिपोर्ट पर मंथन करते दिखाई दिए, वहीं होटल के बाहर पार्टी के नाराज कार्यकर्ताओं ने हंगामा किया। आमेर से आए कार्यकर्ताओं ने सतीश पूनिया के टिकट का विरोध किया। कार्यकर्ताओं का कहना था कि सतीश पूनिया की जगह किसी नए उम्मीदवार को टिकट दिया जाए। इसके अलावा बगरू विधायक कैलाश वर्मा के खिलाफ भी कार्यकर्ताओं ने जबर्दस्त प्रदर्शन किया। नाराज कार्यकर्ताओं ने साफ कहा कि वर्मा पूर्व में कांग्रेस में रहे हैं और उन्होंने 5 साल में पार्टी को खास नुकसान पहुंचाया है। ऐसे में अगर वर्मा का टिकट नहीं काटा गया तो पार्टी चुनाव हार सकती है। साफ है कि कांग्रेस में हो रहे प्रदर्शनों की तर्ज पर ही बीजेपी में भी अंदरखाने विरोध की आग भड़क रही है। ऐसे में आने वाले दिनों में इसके और तेज होने की संभावना है। अब पार्टी इस पर कैसे काबू पाती है, यह देखना रोचक होगा।

 

Leave a comment