• Home
  • |
  • About Us
  • |
  • Contact Us
  • |
  • Login
  • |
  • Subscribe
BPNLIVE

हबीबुर्रहमान ने छोड़ी पार्टी

बाड़मेर यूआईटी चेयरमैन ने भी पद से दिया इस्तीफा

 

जयपुर। बीजेपी में टिकटों की पहली सूची के बाद शुरू हुआ बगावत और नाराजगी का दौर थमने का नाम नहीं ले रहा है। आज भी प्रदेश में करीब आधा दर्जन से अधिक विधायकों ने टिकट कटने के विरोध में पार्टी छोडऩे के संकेत दिए हैं।

टिकट कटने से नाराज बीजेपी नेताओं के बगावती तेवर और तेज होते जा रहे हैं। नागौर से विधायक हबीबुर्रहमान ने भी बीजेपी से आज अधिकृत रूप से इस्तीफा दे दिया। हबीबुर्ररहमान के पहले कांग्रेस में जाने के कयास लगाए जा रहे थे लेकिन कांग्रेस के स्थानीय जाट नेताओं के विरोध के बाद ऐसा होना मुश्किल लग रहा है। सूत्रों का कहना है कि हबीबुर्ररहमान जाट नेता हनुमान बेनीवाल के भी संपर्क में हैं और उनकी पार्टी के बैनर तले भी वो विधानसभा चुनाव में उतर सकते हैं।

 

 

- 21 विधानसभा सीटों पर विरोध के स्वर

- टिकट कटने से नाराज विधायकों-नेताओं ने दी इस्तीफे की धमकी

- बीजेपी में घमासान जारी

- जयपुर, जयपुर ग्रामीण, हाड़ौती और उदयपुर में ज्यादा नाराजगी

- चार और मंत्रियों की सीटों पर भी खतरा

 

 

सोनाराम की टिकट से कलह

वहीं दूसरी तरफ आज भी बीजेपी मुख्यालय पर नेताओं के नाराज समर्थकों के आने का सिलसिला जारी रहा। नेताओं के समर्थक बीजेपी के बड़े नेताओं से अपनी नाराजगी जताते रहे। इसी बीच बाड़मेर से भी पार्टी के लिए एक बड़ा झटका सामने आया। दिग्गज जाट नेता रहे गंगाराम चौधरी की बेटी और बाड़मेर यूआईटी चेयरपर्सन प्रियंका चौधरी ने टिकट नहीं मिलने के विरोध में पद से इस्तीफा दे दिया है। पार्टी ने यहां से सांसद सोनाराम चौधरी को उम्मीदवार बनाया है। गत विधानसभा चुनावों में प्रियंका यहां से बीजेपी उम्मीदवार थीं। अब सोनाराम की उम्मीदवारी की घोषणा के बाद से प्रियंका पार्टी नेतृत्व से नाराज बताई जा रही हैं।

 

 

- मानवेंद्र सिंह के कांग्रेस में जाने से बदले बाड़मेर के समीकरण

- सांसद सोनाराम को बीजेपी ने माना जाटों का नेता

- मजबूत दावेदारी के बावजूद कटा प्रियंका चौधरी का टिकट

- 2013 में मेवाराम जैन से हारी थीं प्रियंका

- अब पार्टी छोडऩे की भी चर्चाएं गर्म

Leave a comment