• Home
  • |
  • About Us
  • |
  • Contact Us
  • |
  • Login
  • |
  • Subscribe
BPNLIVE

152 सीटों की पहली सूची आते ही जमकर बवाल
जयपुर, बीकानेर, कोटा, अजमेर में भारी हंगामा
दिल्ली में भी वॉर रूम पर दावेदारों का जबर्दस्त विरोध प्रदर्शन
 
जयपुर। विधानसभा चुनावों के लिए कांग्रेस के 152 उम्मीदवारों की सूची सामने आते ही पार्टी में जर्बदस्त बगावत और कलह सामने आ गई है। नामांकन की अंतिम तिथि नजदीक आने के साथ ही उभरी इस जबर्दस्त नारागजी से पार पाना कांग्रेस के लिए भारी परेशानी का सबब बनने वाला है। शुक्रवार को प्रदेश में लगभग 50 विधानसभा सीटों पर टिकट से वंचित दावेदारों ने हल्ला बोल दिया। बीकानेर से लेकर जयपुर तक जबर्दस्त प्रदर्शन हुए हैं। बीकानेर में बी डी कल्ला का टिकट कटने से नाराज समर्थकों ने तो हिंसक  प्रदर्शन तक किया। वहीं जयपुर में विद्याधर नगर सीट से टिकट कटने के बाद टिकट के प्रबल दावेदार विक्रम सिंह शेखावत ने पार्टी के खिलाफ बगावत का बिगुल बजा दिया है। ऐसे में अब तक बीजेपी में आंतरिक विरोध प्रदर्शनों पर तंज कसने वाली कांग्रेस के पसीने छूटने शुरू हो गए हैं। 
नाराजगी का आलम यह है कि कोटा में तो पार्टी कार्यालय पर तोडफ़ोड़ तक कर दी गई। टिकट वितरण से नाराज पदाधिकारियों द्वारा इस्तीफे दिए जाने का सिलसिला भी शुरू हो गया है। बगावत के सुर राजधानी जयपुर से लेकर अन्य जिलों में भी तेजी से उठ रहे हैं। कांग्रेस की बड़ी सभाओं में पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी के बयान ने कहा था कि पैराशूट उम्मीदवारों की रस्सी मैं खुद काटूंगा। इस बयान के बावजूद पैराशूट उम्मीदवारों को टिकट दिए जाने का भारी विरोध हो रहा है। बाड़मेर में ऐसे ही एक उम्मीदवार को कार्यकर्ताओं की नाराजगी झेलनी पड़ी और उसे बैठक से उठकर जाना पड़ा। वहीं बीकानेर शहर में पूर्व और पश्चिम दोनों सीटों पर प्रत्याशियों का भारी विरोध हो रहा है। कई जगह दावेदारों ने निर्दलीय चुनाव लडऩे की भी घोषणा कर दी है। वहीं कई स्थानों पर टिकट से वंचित दावेदार अपने समर्थकों के साथ रणनीति बनाने में जुटे हैं।
यह हैं प्रदेश में कांग्रेस के हाल
कोटा दक्षिण से राखी गौतम को प्रत्याशी बनाए जाने के बाद कार्यकर्ताओं ने कांग्रेस कार्यालय में घुसकर जमकर हंगामा और तोडफ़ोड़ की। बीकानेर में बीडी कल्ला का टिकट कटने से नाराज कार्यकर्ताओं ने रात को ही डागा चौक पर नेता प्रतिपक्ष रामेश्वर डूडी के खिलाफ जमकर नारेबाजी की और वहां पड़े पुराने फर्नीचर को आग लगा दी। शुक्रवार को शहर में रैली निकाली और सांखला रेलवे फाटक को जाम कर दिया। अजमेर की मसूदा सीट पर प्रत्याशी राकेश पारीक के विरोध में पूर्व विधायक ब्रह्मदेव कुमावत ने ताल ठोक दी है। बस्सी से टिकट कटने से नाराज लक्ष्मण मीणा के समर्थकों ने जयपुर में कांग्रेस कार्यालय पहुंचकर प्रदर्शन किया। अटरू-बारां से कांग्रेस में बागी धर्मराज मेहरा निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में उतरने की तैयारी में हैं। रतनगढ़ में पूसाराम गोदारा की टिकट कटने से कार्यकर्ता नाराज है। गोदारा के निवास पर बैठक कर कार्यकर्ताओं ने बगावत का ऐलान कर दिया। 
इधर भी घमासान के हालात
मेड़ता में कांग्रेस प्रत्याशी सोनू चितारा को पैराशूट उम्मीदवार बताया जा रहा है। वहीं चित्तौड़ में प्रत्याशी आनन्दीराम का विरोध हो रहा है और टिकट के खिलाफ कार्यकर्ता व पदाधिकारी लामबंद हो गए हैं। बाड़मेर में बाड़मेर शहर, पचपदरा और सिवाना में प्रत्याशियों का विरोध हो रहा है। इसी तरह जयपुर की शाहपुरा सीट से मनीष यादव को टिकट दिए जाने का विरोध शुरू हो गया है। बड़ी संख्या में आलोक बेनीवाल समर्थकों ने पीसीसी पर प्रदर्शन भी किया। 
जयपुर की पूर्व मेयर का इस्तीफा
जयपुर में किशनपोल विधानसभा क्षेत्र से टिकट नहीं मिलने से नाराज पीसीसी महासचिव पूर्व मेयर ज्योति खंडेलवाल ने पद से इस्तीफा दे दिया। उन्होंने कहा कि वे पार्टी का प्रत्याशी बनने की सभी योग्यताएं रखती हैं, इसके बाद भी पार्टी ने किशनपोल से अमीन कागजी को टिकट दे दिया, जिनका किशनपोल से कोई लेना-देना ही नहीं है। इसी तरह बाड़मेर में कांग्रेस अनुसूचित जाति विभाग के जोधपुर समन्वयक गोपाराम मेघवाल ने इस्तीफा दे दिया है। सिरोही से संयम लोढ़ा का टिकट कटने के बाद अब तक करीब 20 से ज्यादा कांग्रेस पदाधिकारियों के इस्तीफे पीसीसी चीफ सचिन पायलट को मेल किए जा चुके हैं।
बीकानेर पूर्व और पश्चिम दोनों सीटों पर बगावत
बगावत का सबसे बड़ा बिगुल बीकानेर संभाग पर बजा है। यहां पूर्व मंत्री और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता बीडी कल्ला का बीकानेर पश्चिम से टिकट काट देने से समर्थकों में जबर्दस्त आक्रोश है। कल्ला समर्थकों ने रात से ही हंगामा मचाना शुरू कर दिया। शुक्रवार को सुबह बैठक कर शनिवार को नामांकन दाखिल करने की घोषणा कर दी गई। वहीं बीकानेर पूर्व से टिकट के प्रबल दावेदार गोपाल गहलोत ने भी निर्दलीय चुनाव लडऩे की घोषणा कर दी है। वे पूर्व और पश्चिम दोनों सीटों पर चुनाव लड़ेंगे।
कांग्रेस की पहली सूची में बीकानेर पश्चिम से मौजूदा शहर अध्यक्ष यशपाल गहलोत और बीकानेर पूर्व से कन्हैयालाल झंवर को टिकट दिया गया है। पश्चिम से बीडी कल्ला और पूर्व से गोपाल गहलोत प्रबल दावेदार थे, लेकिन टिकट कटने के बाद कल्ला समर्थक आक्रोशित हो गए। कार्यकर्ता रात को ही डागा चौक पर एकत्र हो गए और वहां रखे पुराने फर्नीचर को आग लगाकर नेता प्रतिपक्ष रामेश्वर डूडी के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। इसके बाद सुबह फिर बैठक कर कल्ला को चुनाव लड़वाने की घोषणा कर दी। कल्ला समर्थकों के अनुसार शनिवार को दो नामांकन-पत्र दाखिल किए जाएंगे। एक कांग्रेस के सिंबल पर और दूसरा निर्दलीय। अगर पार्टी टिकट नहीं बदलती है तो निर्दलीय चुनाव लड़ा जाएगा। हालांकि अभी तक बीडी कल्ला ने इस पर कोई प्रतिक्रिया नहीं दी है। वहीं बीकानेर पूर्व से टिकट कटने से खफा गोपाल गहलोत ने बगावत करते हुए बीकानेर शहर की दोनों सीटों पूर्व और पश्चिम से चुनाव लडऩे की घोषणा की है। कांग्रेस ने यहां से एक दिन पहले ही पार्टी में शामिल हुए कन्हैयालाल झंवर का टिकट दिया है।
मचा घमासान, राहुल ने मांगी रिपोर्ट, शाम को सीईसी की बैठक
कांग्रेस की 152 उम्मीदवारों की पहली सूची जारी होते ही पार्टी में घमासान मच गया। विरोध की सूचना पर पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी ने राजस्थान के प्रभारी महासचिव अविनाश पांडे से इसकी पूरी रिपोर्ट मांगी। राहुल ने इसके साथ ही डैमेज कंट्रोल में लगने के भी निर्देश दिए हैं। राहुल के निर्देश के बाद चारों सहप्रभारी सचिवों से ग्राउंड रिपोर्ट मांगी गई। एमपी दौरे से लौटने के बाद शाम तक राहुल गांधी को इसकी पूरी रिपोर्ट सौंपी गई। राहुल गांधी के एमपी दौरे से लौटने के बाद देर शाम सीईसी की बैठक की गई। इस बैठक में बची हुई 48 सीटों पर उम्मीदवारों को लेकर फिर से मंथन हुआ। इसके साथ ही पहली सूची के बाद पैदा हुए असंतोष पर भी चर्चा की गई। संभावना इस बात की भी जताई जा रही है कि कुछ सीटों पर उम्मीदवार बदले जा सकते हैं।
कांग्रेस को अनूपगढ़-बांदीकुई में बड़ा झटका
कांग्रेस को अनूपगढ़ में भी बड़ा झटका लगा है। कुछ दिन पहले ही जमींदारा पार्टी छोड़कर कांग्रेस में शामिल होने वाली शिमला नायक ने समाज की अनदेखी का आरोप लगाते हुए कांग्रेस से इस्तीफा दे दिया और निर्दलीय चुनाव लडऩे का ऐलान कर दिया। इसी तरह बांदीकुई विधानसभा सीट पर भी कांग्रेस को बड़ा झटका लगा। पूर्व विधायक रामकिशोर सैनी ने एक बार फिर बीजेपी का दामन थाम लिया। सैनी 2008 में बांदीकुई से निर्दलीय के तौर पर चुनाव जीते थे। जबकि 2013 में हार गए थे कांग्रेस से चुनाव, गहलोत सरकार में मंत्री भी रहे चुके हैं सैनी। अब टिकट नहीं मिलने पर सैनी ने कांग्रेस को फिर अलविदा कह दिया। 
बस्सी के 39 सरपंचों ने कांग्रेस से दिए इस्तीफे
जयपुर के निकट बस्सी विधानसभा सीट पर भी कांग्रेस में इस्तीफे की झड़ी लग गई है। टिकट की दावेदारी कर रहे लक्ष्मण मीणा के समर्थन में 39 सरपंचों ने पार्टी से इस्तीफे दे दिए हैं। रिटायर्ड आईपीएस लक्ष्माण मीना के समर्थकों ने पीसीसी पर जबर्दस्त प्रदर्शन किया और साफ कर दिया कि अगर टिकट नहीं मिला तो वे निर्दलीय प्रत्याशी के तौर पर चुनाव लड़ेंगे। 
नदबई को लेकर दिल्ली में बवाल, अजमेर में फूट
भरतपुर की नदबई विधानसभा सीट को लेकर दिल्ली में भी बड़ा बवाल हुआ। कांग्रेस ने नदबई से हिमांशु कटारा को टिकट दिया है। इसके बाद से नदबई के कांग्रेस कार्यकर्ताओं में भारी नाराजगी देखने को मिली। दिल्ली पहुंचे कार्यकर्ताओं ने कांग्रेस के वॉर रूम 15 जीआरजी के बाहर जोरदार प्रदर्शन किया। नाराज कार्यकर्ताओं ने वहां पहुंचे भंवर जितेंद्र सिंह की गाड़ी घेर ली। इसी तरह अजमेर दक्षिण सीट पर भी कांग्रेस में बगावत दिखाई दे रही है। पार्टी ने यहां से हेमंत भाटी को टिकट दिया है। वहीं पूर्व मंत्री ललित भाटी ने इसके विरोध में बगावत का झंडा बुलंद कर दिया है। हेमंत भाटी ने शनिवार को निर्दलीय के तौर पर नामांकन भरने का ऐलान कर दिया है। 
विद्याधर नगर में भी हंगामा
कांग्रेस ने विद्याधर नगर विधानसभा सीट पर सीताराम अग्रवाल को उम्मीदवार बनाया है। ऐसे में पिछले दो चुनावों में कांग्रेस प्रत्याशी रहे विक्रम सिंह शेखावत ने विरोध का झंडा बुलंद कर दिया। झोटवाड़ा स्थित खातीपुरा रोड पर विक्रम सिंह के कार्यालय पर शुक्रवार सुबह ही बड़ी संख्या में कार्यकर्ता एकत्र हो गए और उन्होंने प्रदर्शन किया। इसके बाद शाम को पीसीसी मुख्यालय पर भी शेखावत समर्थकों ने प्रदर्शन किया। शनिवार शाम को शेखावत समर्थक विद्याधर नगर क्षेत्र में एक सभा करने जा रहे हैं। जिसके बाद विक्रम सिंह निर्दलीय के तौर पर चुनाव मैदान में उतरने का ऐलान कर सकते हैं।  

Leave a comment