• Home
  • |
  • About Us
  • |
  • Contact Us
  • |
  • Login
  • |
  • Subscribe
BPNLIVE

मॉब लिचिंग की घटनाओं के बाद फेक फॉरवर्ड मेसेज पर कार्रवाई शुरू
मेसेज को फॉरवर्ड करने से बचने के लिए यूजर्स को दिए सुझाव
फॉरवर्ड मैसेज की पहचान के लिए लाएंगे नई सुविधा
नई दिल्ली। देश में फर्जी मेसेज से मॉब लिंचिंग की बढ़ती घटनाओं पर केंद्र सरकार के नोटिस के बाद जागे वॉट्सऐप ने अखबारों में विज्ञापन जारी कर लोगों को जागरूक किया है। मंगलवार को देश के प्रमुख अखबारों में दिए विज्ञापन में वॉट्सऐप ने फर्जी संदेश से बचने के 10 टिप्स दिए हैं। इसके साथ ही अगले कुछ दिनों में ऐसा फीचर लाने का भी वादा किया है, जिससे फेक मेसेज की पहचान की जा सके। गौरतलब है कि केंद्र सरकार ने कंपनी को फर्जी मेसेजों पर लगाम लगाने के लिए जरूरी कदम उठाने के निर्देश दिए थे। वॉट्सऐप ने फेक मेसेज से बचने के लिए ये टिप्स दिए हैं... 
 
1) फॉरवर्ड मेसेज से रहें सावधान 
व्हाट्स ऐप का कहना है, हम इस सप्ताह से आपके लिए नई विशेषता लेकर आ रहे हैं, जिससे आपको यह पता लगाने में आसानी होगी कि कौन से संदेश फॉरवर्ड  (अग्रेषित) किए गए हैं। अगर आपको फॉरवर्ड संदेश प्राप्त होता है तो इस बात की जांच करें कि क्या उस संदेश में मौजूद तथ्य सच हैं या नहीं। 
 
2) ऐसी जानकारी के तथ्यों पर सवाल उठाएं जो आपको परेशान करती है 
अगर आप वॉट्सऐप फॉरवर्ड में कुछ ऐसा पढ़ते हैं जिससे आपको क्रोध आता है या डर लगता है, तो यह जानने की कोशिश करें कि क्या उस संदेश का उद्देश्य आपके मन में ऐसी ही भावनाओं को जगाना था? अगर जवाब हां है तो आप उसे दूसरों के साथ साझा न करें और न ही फॉरवर्ड करें। 
 
3) ऐसी जानकारी की जांच करें जिस पर यकीन करना कठिन हो 
ऐसी घटनाएं या किस्से जिन पर यकीन करना थोड़ा कठिन होता है, ये अक्सर ही सच नहीं होते। ऐसे में किसी अन्य स्त्रोत से पता लगाएं कि जानकारी सच्ची है या नहीं। 
 
4) ऐसे संदेशों से बचें जो थोड़े अलग दिखते हैं 
अधिकांश ऐसे संदेश जिनमें धोखा या झूठी खबरें होती हैं उनमें गलत वर्तनी का प्रयोग किया जाता है। ऐसे सूचक चिह्नों को ध्यान में रखें ताकि आप पता लगा सकें कि संदेश में निहित जानकारी सच है या नहीं। 
 
5) संदेशों में मौजूद फोटो को ध्यान से देखें 
फोटो और विडियो पर आसानी से यकीन कर लिया जाता है, लेकिन आपको भ्रमित करने के लिए फोटो और विडियो को भी संपादित किया जा सकता है। कभी-कभी फोटो सच्ची होती है, लेकिन उससे जुड़ी कहानी नहीं। 
 
6) लिंक की भी जांच करें 
ऐसा लग सकता है कि संदेश में मौजूद लिंक किसी परिचित या जानी-मानी साइट का है, लेकिन अगर उसमें गलत वर्तनी या विचित्र वर्ण मौजूद है तो संभव है कि कुछ गलत जरूर है। 
 
7) अन्य सोर्स का प्रयोग करें 
घटना की सचाई जानने के लिए अन्य समाचार साइट्स या ऐप्स को देखें। अगर घटना सच्ची होगी तो संभव है कि अन्य जगह भी पोस्ट की गई होगी। जब किसी घटना की एक से अधिक जगह रिपोर्ट की जाती है तो उसके सच होने की संभावना बढ़ जाती है। 
 
8) सोच-समझकर संदेशों को साझा करें 
अगर आप संदेश के स्रोत को नहीं जानते या आपको लगता है कि संदेश में मौजूद जानकारी झूठी हो सकती है तो कृपया उसे अन्य लोगों को न भेजें। 
9) आप जो देखना चाहते हैं, उसे नियंत्रित करें 
आप वॉट्सऐप पर किसी भी नंबर को ब्लॉक कर सकते हैं या किसी भी समूह को छोड़ सकते हैं। अपने वॉट्सऐप अनुभव पर अपना नियंत्रण रखने के लिए ऐसी विशेषताओं का प्रयोग करें। 
 
10) झूठी खबरें अक्सर फैलती हैं 
आप इस पर ध्यान न दें कि आपने संदेश को कितनी बार प्राप्त किया है। सिर्फ इसलिए कि संदेश कई बार साझा किया गया है, इसका मतलब यह नहीं है कि वह खबर सच्ची हो। 
 

Leave a comment